FANDOM


Maheshwar-tiwari 120 146

माहेश्वर तिवारी

२२ जुलाई १९३९ को बस्ती (अब सन्तकबीर नगर) के मलौली गांव में जन्मे माहेश्वर तिवारी ने विभिन्न नगरों (गोरखपुर, बनारस, होशंगाबाद, विदिशा आदि ) में अपने दीर्घकालिक प्रवास के दौरान न केवल गीत-नवगीत की पताका को फहराए रखा, बल्कि मुरादाबाद में स्थाई रूप से रच-बस जाने के बाद भी उनकी यह साधना जारी है।

प्रकाशित कृतियाँ Edit

नवगीत संग्रह- हरसिंगार कोई तो हो', 'सच की कोई शर्त नहीं', 'नदी का अकेलापन' और 'फूल आये हैं कनेरों में'।

संकलनों में- 'पांच जोड़ बांसुरी', 'एक सप्तक और', 'नवगीत दशक दो', 'यात्रा में साथ-साथ', 'गीतायन' , 'स्वान्तः सुखाय'

पुरस्कार व सम्मान Edit

उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान से पुरस्कृत यह अदभुत गीतकवि यूं तो दर्जनों सम्मान प्राप्त कर चुका है, लेकिन जब उन्हें बरेली (उ.प्र.) से 'विष्णु प्रभाकर स्मृति साहित्य सम्मान-२०११' से विभूषित किया गया तो वह भाव-विभोर हो गये; क्योंकि वह अपने प्रारम्भिक काल से विष्णु प्रभाकार जी एवं शरद जोशी जी के प्रसंशक रहे और उनके नाम से यह सम्मान मिलना उनके लिये बहुत बड़ी बात थी।

संपर्क- Edit

हरसिंगार', ब/म -४८, नवीन नगर, मुरादाबाद (उ.प्र.), मोबा० ०९४५६६८९९९८ । Edit

माहेश्वर तिवारी के नवगीत Edit

Edit